December 2, 2022

वचन किसे कहते है | वचन के भेद | वचन परिभाषा

वचन किसे कहते है किसी वस्तु , व्यक्ति की संख्या का बोध कराने का कार्य वचन के द्वारा किया जाता है। वचन व्याकरण का एक अंग है जो आरंभिक शिक्षा से लेकर प्रतियोगी परीक्षा तक के प्रश्नों में शामिल होता है। यह लेख सभी प्रकार के विद्यार्थियों के लिए लाभकारी है। इस लेख के माध्यम से वचन किसे कहते हैं ? भेद , परिभाषा , अंग आदि का विस्तार से अध्ययन करेंगे। हिंदी व्याकरण में वचन का बहुत महत्व होता है। बाकी भाषाओं की तरह हिंदी में भी वचन का अच्छा खासा महत्व है। वचन में जरा सी गड़बड़ी होने से भी पूरा वाक्य अजीब सा लगने लगता है। तो आज हम वचन के बारे में सभी जानकारी आपको दे रहे है।

वचन किसे कहते है

शब्द के जिस रूप से संज्ञा के एक या अधिक(अनेक) होने का पता चले, उसे वचन कहते है।

गाय घास चर रही है।                  लड़के फुटबाल खेल रहे है।

चिड़िया उड़ रही है।                   बच्चे पतंग उड़ा रहे है।

उपर्युक्त वाक्यों में गाय चिड़िया शब्द एक संख्या का बोध करा रहे है जबकि लड़के बच्चे एक से ज्यादा संख्या का बोध करा रहे है। एक या अधिक का बोध कराने वाले इन्ही शब्दों को वचन कहते है।

वचन के भेद

वचन के दो भेद होते है

  • एकवचन
  • बहुवचन

एकवचन किसे कहते है

किसी एक वस्तु या प्राणी को प्रकट करने वाले संज्ञा शब्द एकवचन कहलाते है; जैसे – पुस्तक, दिन, शेर, बच्चा, विदयालय आदि।

बहुवचन किसे कहते है

एक से अधिक वस्तुओ या प्राणियों को प्रकट करने वाले शब्द बहुवचन कहलाते है; जैसे – पुस्तके, दिनों, शेरो, बच्चे, विदयालयों आदि।

वचन बदलने के नियम

‘अ’ का एँ बनाकर

एकवचन बहुवचन
भेड़भेड़ें
रातरातें
गायगाएँ
मेजमेजें
पुस्तकपुस्तकें
बहनबहनें
बातबातें
बत्तखबत्तखें
आँखआँखें

‘आ’ का ‘ए’ बनाकर

एकवचन बहुवचन
बच्चाबच्चे
 छाताछाते
 घोड़ाघोड़े
 बेटा बेटे
 कपड़ाकपड़े
 गधागधे
 बूढ़ाबूढ़े
 नालानाले
 लड़कालड़के

‘आ’ में ‘एँ’ जोड़कर

एकवचन बहुवचन
सभासभाएँ
  क्रीड़ाक्रीड़ाएँ
  मालामालाएँ
  महिलामहिलाएँ
  मातामाताएँ
  कथाकथाएँ

‘इ’ या ‘ई’ में ‘याँ’ जोड़कर

एकवचन बहुवचन
रोशनीरोशनियाँ
  स्त्रीस्त्रियाँ
   सखीसखियाँ
  देवीदेवियाँ
  रीतीरीतियाँ
  मिठाईमिठाइयाँ
पुत्रीपुत्रियाँ
विधिविधियाँ
दवाईदवाइयाँ

‘उ’, ‘ऊ’ या ‘औ’ में ‘एँ’ जोड़कर

एकवचन बहुवचन
वधूवधुएँ
  वस्तुवस्तुएँ
   ऋतुऋतुएँ
  धेनूधेनुएँ
  गौगौएँ
  बहूबहुएँ

‘या’ का ‘याँ’ बनाकर

एकवचन बहुवचन
डिबियाडिबियाँ
  गुड़ियागुड़ियाँ
   चुहियाचुहियाँ
  टोपीटोपियाँ
  चिड़ियाचिड़ियाँ
  नदीनदियाँ

कुछ शब्दों के बहुवचन मूल शब्द में गण, वर्ग या लोग जोड़कर भी बनाए जाते है।  

एकवचन बहुवचन
वक्तावक्तागण
 आपआप लोग
  तुमतुम लोग
 कविकविगण
 युवायुवावर्ग
 दर्शकदर्शकगण

कुछ शब्द ऐसे होते है जिनका वचन बदलने पर भी रूप नहीं बदलता, परंतु उनके साथ विभक्ति चिहन लगाकर वचन बदलने पर उनका रूप बदल जाता है; जैसे –  

संत तपस्या कर रहा है।   ——–   संत तपस्या कर रहे है। ]    यहाँ संत शब्द का वचन बदलने पर भी रूप नहीं बदला है।

संत ने तपस्या की।   ———- संतो ने तपस्या की। ]      यहाँ संत शब्द के साथ ‘ने’ विभक्ति चिहन लगाकर संत शब्द का वचन बदलने पर                                                                                           संत शब्द का रूप भी बदल गया है।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर वचन किसे कहते है के बारे में बताया गया है ये आपको कैसा लगा comment करके हमें जरुर बताएं। अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे भी वचन किसे कहते है के बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *